Shiv Parvati Shayari : भगवान शिव और देवी पार्वती की दिव्य प्रेम कहानी एक कालातीत कहानी है जो हमें प्रेरित और मोहित करती रहती है। वे जो बंधन साझा करते हैं, वह प्रेम, शक्ति और भक्ति के पूर्ण मिलन का प्रतीक है। शायरी की खूबसूरत कला के माध्यम से, हमें उनके शाश्वत प्रेम और प्यार, बलिदान और साहचर्य की शक्ति के बारे में वे हमें जो सबक सिखाते हैं, उसकी याद दिलाते हैं। उनकी दिव्य प्रेम कहानी हमारे दिलों को छूती रहे और हमें अपने जीवन में प्यार और सद्भाव विकसित करने के लिए प्रेरित करे।

इतने सरल कहाँ हैं दिलो के रिश्ते,
न जाने कितने जन्म लिए माता पार्वती ने शिव को पाने के लिए
जय भोलेनाथ!

जहां इंतजार ना हो वहां ये प्रेम व्यर्थ है,
यदि माता पार्वती प्रेम हैं तो भगवान शिव प्रेम का अर्थ है.

रिश्ता दोनो का नेक है, शिव और शक्ति एक है।”
Rishta dono ka nek hai, Shiv aur Shakti ek hai.

Jai Bholenath!

Shiv Parvati Shayari In Hindi

शिव पार्वती की शायरी शिव प्रेम शायरी
सच्चे प्यार में यह कहानी मशहूर हो गई
जब महलों की रानी श्मशान वासी की दीवानी हो गई

 

सती की मृत्यु के बाद, आया पल बिछड़ने का
सदियों की प्रतीक्षा के बाद, आया पल शिव और पार्वती के मिलन का

ये दुनिया की सबसे अलग ही प्रेम कहानी है,
जिसमें महलों की रानी, वैरागी शिव की दीवानी है।

Ye duniya ki sabse alag hi prem kahani hai,
Jisme mehlo ki rani vairagi shiv ki deewani hai.

shiv parvati sayri

शिव परमात्मा है तो
पार्वती उनकी आत्मा है

भोलेनाथ का रूप निराला,
हाथ में है डमरू गले में है साप की माला.

हमारा प्यार हमारी जिंदगी का हिस्सा है,
हमारे बीच कभी ना टुटे ऐसा रिश्ता है।

Hamara pyar hamari zindagi ka hissa hai,
Hamare bich kabhi na tute aisa rishta hai.

(Visited 716 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *