अंत में, shikayat shayari रिश्तों के भीतर शिकायतों और शिकायतों को व्यक्त करने के लिए एक शक्तिशाली माध्यम के रूप में कार्य करती है। कविता की कला के माध्यम से, व्यक्ति अपनी भावनाओं और चिंताओं को व्यक्त करने में सक्षम होते हैं, जिससे खुले संचार और समझ की अनुमति मिलती है। चाहे वह रोमांटिक रिश्ता हो, दोस्ती हो या पारिवारिक बंधन, shikayat shayari मुद्दों को हल करने और समाधान तलाशने के लिए एक मंच प्रदान करती है। यह हमें याद दिलाता है कि हमारे सामने आने वाली चुनौतियों और शिकायतों के बावजूद, प्यार और संबंध अभी भी पनप सकते हैं। तो, आइए हम shikayat shayari की सुंदरता को गले लगाएं और इसे अपने रिश्तों को मजबूत करने और सुधारने के लिए एक उपकरण के रूप में उपयोग करें।

बहुत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती।

Shikayat Shayari


दिल टूटने पर भी जो आपसे
शिकायत तक ना करे,
उससे ज्यादा मोहब्बत कोई और
आपको नहीं कर सकता।

Shikayat Shayari


तूझे ही गले लगा कर,
तेरी ही शिकायत,
तुझसे ही करने का
दिल करता है।

Shikayat Shayari


हम तो नाम भी नहीं लेते उनका किसी के सामने,
खुदा जाने उन्हें शिकायत किस बात से है।

Shikayat Shayari


उन्हीं में होता है रिश्ते निभाने का दम,
जो शिकवे और शिकायतें करते है कम।

Shikayat Shayari


जब आपकी शिकायतों को कोई
गंभीर ना ले
तो बस आप भी गंभीर
होना छोड़ दीजिए

Shikayat Shayari


एक मेरी मोहब्बत ही
को नहीं समझ पाए तुम,
बाकी मेरी हर गलती का
हिसाब रखते हो !!

Shikayat Shayari


तुमने समझा ही नहीं,
और ना ही समझना चाहा,
हम चाहते ही क्या थे तुमसे
तुम्हारे सिवा !!

Shikayat Shayari


हालात किस्मत और वक़्त की बात है,
वरना मैं इतना बुरा नहीं जितना तुम सोच रही हो !!

Shikayat Shayari


हालात किस्मत और वक़्त की बात है,
वरना मैं इतना बुरा नहीं जितना तुम सोच रही हो !!

Shikayat Shayari


उसको शिकायत थी हम से
कि कभी बाँधा नही हमने उसे खुद से
सबब मुझे छोड़ जाने का
बड़ा ही वाजिब बताया उसने।

Shikayat Shayari

(Visited 257 times, 1 visits today)
Previous Post

Next Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *