Judai Shayari
Hindi Shayari Shayari

Judai Shayari

Sep 10, 2023

Dard Bhari Judai Shayari

जुदाईया देने की बजाय मार देना था ,
वो ज़्यादा सही होता।

दूर है उनसे मगर
ज़िंदा है क्यूंकि
आ गए वो अगर।

Judai Shayari

Sab Ke Hote Huye Bhi Tanhai Milti Hai,
Yaadon Me Bhi Gham Ki Parchhai Milti Hai,
Jitni Bhi Dua Karten Hain Kisi Ko Paane Ki,
Utni Hi Jyada Judai Milti Hai.
सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती है,
यादों में भी गम की परछाई मिलती है,
जितनी भी दुआ करते हैं किसी को पाने की,
उतनी ही ज्यादा जुदाई मिलती है।

Akela Mehsoos Karo Jab Tanhai Mein
Yaad Meri Aaye Jab Judai Mein
Main Tumhare Pass Hun Har Pal
Jab Chahe Dekh Lena Apni Parchhayi Mein.
अकेला महसूस करो जब तन्हाई में,
याद मेरी आये जब जुदाई में,
मैं तुम्हारे पास हूँ हर पल,
जब चाहे देख लेना अपनी परछाई में।

Judai Shayari

Jigar Hai Chhalni-Chhalni Aankhen Lahoo-Lahoo Hain,
Teri Judai Ne Mujhe Is Kadar Tabaah Kar Diya.
जिगर है छलनी-छलनी… आँखें लहू-लहू हैं,
#तेरी जुदाई ने मुझे इस कदर तबाह कर दिया।

आओ किसी रोज मुझे टूट के बिखरता देखो
मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो !

आप को पा कर अब खोना नहीं चाहते
इतना खुश हैं कि अब रोना नहीं चाहते !

कभी कभी तो ये दिल में सवाल उठता है
कि इस जुदाई में क्या उस ने पा लिया होगा !

इश्क – मोहब्बत तो सब करते है
गम-ऐ-जुदाई से सब डरते हैं !

Judai Shayari

dard e judai shayari

उसे हम छोड़ दे लेकिन
बस एक छोटी सी उलझन है
सुना है दिल से धड़कन की
जुदाई सिर्फ मौत होती है !
Jab Wada Kiya Hai tune bhai aaenge
Suraj Bankar Chhat per aaenge ham
Hain To judaai ka Gam Kaisa Teri
Har ​Subah Ko Phool se sajaeng

गुजर जाने के बाद भी मुझसे दूर क्यों हो गए
तेरे जाने का गम इतना था कि
मेरी परछाई अब मुझसे दूर हो गई है !
Gujar jaane ke bad bhi mujhse
Dur Kyon Ho Gaye Tere Jaane
ka gum Itna tha ki Mere Pariksha
ab Mujhse Dur ho gai hai

Judai Shayari

तू क्या जाने क्या है तन्हाई
इस टूटे दिल से पूछो क्या है जुदाई
बेवफाई का इलज़ाम न दे ज़ालिम इस वक़्त
से पूछो किस वक़्त तेरे याद न  आई।

too kya jane kya hai tanhae„
is toote dil se poochh kya hai Judai…
bevafae ka ilzam na de zalim„is vaqt
se poochh kis vaqt tere yad na ae

तेरी हर अदा मोहब्बत सी लगती है
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है
पहले नही सोचा था अब सोचने लगे है
हम जिंदगी के हर लम्हों में तेरी ज़रूरत सी  लगती है

हर एक बात पर वक़्त का तकाजा हुआ,
हर एक याद पर दिल का दर्द ताजा हुआ,
सुना करते थे ग़ज़लों में जुदाई की बातें,
खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ |

Judai Shayari

अब तो बस उनकी तस्वीरे
हमारी ज़िन्दगी का सहारा हैं
जब जब कही नाम सुनते हैं उनका
मत पूछो कैसे वो पल हमने गुज़ारा हैं

judai shayari

अगर जाना ही था तो
मेरे इतना करीब न आए होते

dard e judai shayari in hindi

हसंते हसंते रो दिया करता हु कभी कभी
जब जब तुम्हारी हंसी मुझे याद आ जाती हैं

गया था भूल मैं
सिर्फ प्यार काफी नहीं
कुछ बनना भी होता हैं लाइफ में
मोहब्बत पाने के लिए

बहुत कुछ बदल गया मेरी ज़िंदगी में
एक तेरे आने के बाद फिर जाने के बाद


A lot has changed in my life,
one after you come again after you go

जब वादा किया है तो निभाएंगे;
सूरज किरण बन कर छत पर आएंगे;
हम हैं तो जुदाई का ग़म कैसा;
तेरी हर सुबह को फूलों से सजाएंगे

जिंदगी मोहताज नहीं मंज़िलों की
वक्त हर मंजिल दिखा देता है;
मरता नहीं कोई किसी की जुदाई
में वक्त सबको जीना सिखा देता है

कोई वादा नहीं फिर भी प्यार है,
जुदाई के बावजूद भी तुझपे अधिकार है.

तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही,
मुझसे मिलने को तू भी बेक़रार है

कोई रूठे अगर तुमसे तो उसे फ़ौरन मना लेना,
इस हाल में अक्सर जुदाई जीत जाती है।

judai ki shayari

ऐ चाँद चला जा क्यो आया है मेरी चौखट पे,
छोड़ गया वो सख्स जिसके धोखे में हम तुझे देखते थे।

हो जुदाई का शब़ब कुछ भी..!
उसे हम अपनी “ख़ता” कहते हैं..!!

वो तो ढली है “साहिल” के सांसो मे..!
जाने क्यु लोग उसे मुझसे ज़ुदा कहते हैं..!!

खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
ये सोचकर की कोई अपना होता तो रोने ना देता!!

आँसू भी आते हैं और
दर्द भी छुपाना पड़ता है
ये जिंदगी है साहब यहां
जबरदस्ती भी मुस्कुराना पड़ता है।

अदाएं कातिल होती हैं
आँखें नशीली होती हैं,
मोहब्बत में अक्सर होंठ सूखे होते हैं
और आँखे गीली होती हैं।

जहर की भी जरुरत नहीं पड़ी
हमें मारने के लिए, तुम्हारे ऐसे
बर्ताव ने ही हमें मार डाला।

आधा ख्वाब, आधा इश्क़, आधी
सी है बंदगी,
मेरे हो…पर मेरे नही.. कैसी है ये
जिंदगी…

अगर खुदा ने पूछा तो कह देंगे, हुई थी
मोहब्बत, मगर जिससे हुई
हम उसके काबिल न थे,,,😔

judai sad shayari

जुदाइयों के ज़ख़्म दर्द-ए-ज़िंदगी ने भर दिए,
तुझे भी नींद आ गई मुझे भी सब्र आ गया।

कट ही गई जुदाई भी कब ये हुआ कि मर गए,
तेरे भी दिन गुजर गए मेरे भी दिन गुजर गए।

मेरी जुदाई में वो मिलकर नहीं गया,
उसके बगैर मैं भी कोई मर नहीं गया।

इस बे-फरेब प्यार के रस्ते में चन्द रोज,
अगर हम तुम्हारे साथ रहे भी तो क्या रहे,
कुछ ऐसे मोड़ आये मोहब्बत की राह में,
हम बदनसीब मिलके भी तुमसे जुदा रहे।

सफर-ए-मोहब्बत अब खत्म ही समझिए साहब,
उनके रवैये से अब जुदाई की महक आने लगी है।

Wafa Ki Zanjeer Se Dar Lagta Hai,
Kuch Apni Taqadeer Se Dar Lagta Hai,
Jo Mujhe Tujhse Juda Karti Hai,
Haath Ki Us Lakeer Se Dar Lagta Hai.
वफ़ा की ज़ंज़ीर से डर लगता है,
कुछ अपनी तक़दीर से डर लगता है,
जो मुझे तुझसे जुदा करती है,
हाथ की उस लकीर से डर लगता है।

Use Hum Chhod De Lekin
Bas Ik Chhoti Si Uljhan Hai,
Suna Hai Dil Se Dharkan Ki
Judai Maut Hoti Hai.
उसे हम छोड़ दे लेकिन
बस एक छोटी सी उलझन है,
सुना है दिल से धड़कन की
जुदाई सिर्फ मौत होती है।

जिसकी आँखों में कटी थी सदियां,
उसने सदियों की जुदाई दे है।
Whose eyes were lived centuries,
He has given a separation of centuries.

judai shayari

तेरी जुदाई भी हमें प्यार करती है,
तेरी याद बहुत बेकरार करती है,
वह दिन जो तेरे साथ गुज़ारे थे,
नज़रें तलाश उनको बार-बार करती हैं.

जब वादा किया है तो निभाएंगे;
सूरज किरण बन कर छत पर आएंगे;
हम हैं तो जुदाई का ग़म कैसा;
तेरी हर सुबह को फूलों से सजाएंगे

ज़माने ने साथ ना दिया
बस इसलिए हम दूर है।
एक  भ्रम उनके आने का
मुझे ज़िंदा किये बैठा है ,
क्यूंकि उनकी जुदाई
मेरी साँसे ही ले गयी
ना ख्वाबो में रहो
ना यादों में रहो
ना साँसों में रहो
और ना ही एहसासो में रहो।

जिसकी फ़िक्र थी कभी मेरी
मुझसे भी ज्यादा आज वही
क्यों अजनबी सा बन गया है,
jiski fikar thi kabhi meri
mujhse bhi jyada aaj wahi
kyu ajnabi sa ban gaya hai.

एक लम्बे वक़्त से नाराज़ हु उनसे
पर वो हमारी खबर ही नहीं रखते।

काश थोड़ा और अधिकार
दिया होता तुमने मुझे
तो कबका तुम्हे अपना बना लिया होता।

judai shayari in hindi

एक पे एक तोहफा मुफ्त था
जुदाईयोँ पे बेवफाई मिलेगी
ये कहां मालूम था।

किसी को मोहब्बत में जुदाई न मिले
और जो पोस्ट को लाइक ना करे
.उसे कड़कड़ाती ठंड में रजाई ना मिले.

किसी लिबास की ख़ुशबू जब उड़ के आती है
तेरे बदन की जुदाई बहुत सताती है
तेरे बगैर मुझे चैन कैसे पड़ता है
मेरे बगैर तुझे नींद कैसे आती है.

Yaad Me Teri Aahein Bharta Hai Koi,
Har Saans Ke Saath Tujhe Yaad Karta Hai Koi,
Maut To Sachai Hai Aani Hi Hai Ek Din,
Lekin Teri Judai Me Har Roz Marta Hai Koi.
याद में तेरी आहें भरता है कोई,
हर सांस के साथ तुझे याद करता है कोई,
मौत तो सच्चाई है आनी ही है एक दिन,
लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज मरता है कोई।

Jiski Aankhon Mein Kati Thi Sadiyan,
Usne Sadiyon Ki Judai Di Hai.
जिसकी आँखों में काटी थी सदियाँ,
उसने सदियों की जुदाई दी है।

याद में तेरी कैसे दिन गुजरते हैं,
पूछो न हमसे आलम वो जुदाई का,
कांटो की तरह चुभता रहा वो लम्हा,
रो-रोकर गुजरता है रास्ता हर तन्हाई का।

अब तो बस उनकी तस्वीरे
हमारी ज़िन्दगी का सहारा हैं
जब जब कही नाम सुनते हैं उनका
मत पूछो कैसे वो पल हमने गुज़ारा हैं

फिर से दूर होना नहीं हैं तुझसे
इसलिए पाने की कोशिश ही नहीं की

judai shayari urdu

kis kis ko batā.eñge judā.ī kā sabab ham
tū mujh se ḳhafā hai to zamāne ke liye aa

AHMAD FARAZ

Wo Judai Bhe Kia Judai Thi Tujhy Al Wida Bhe Na Keh Saky’
Tery Dil Main Rehny Ka Khayal Tha Par Tery Shahir Main Bhe Na Reh Saky…

TAHIR ABBAS KHAN

Yeh Judai Apni Aarzi Hai
Na Dil Mai Is Ka Malaal Rakhna…

NASIR YASIN

वो मुझ को छोड़ के जिस आदमी के पास गया
बराबरी का भी होता तो सब्र आ जाता

यूँ बिछड़ना भी बहुत आसाँ न था उस से मगर
जाते जाते उस का वो मुड़ कर दोबारा देखना

Jamma Tum Ko Nahi Sakte
Humain Manfi Se Nafrat Hai

Shab e firaq to katatti nazar nahi aati
Khayal-e yaar main aao faraz so jayen

(Visited 140 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *