Hindi Shayari Shayari

Insult Shayari

Jul 17, 2023

Insult Shayari : Shayari can be a powerful form of expression, but it is important to use it responsibly and respectfully. Insult Shayari may entertain some, but it can also cause harm and damage relationships. It is crucial to remember that words have consequences, and it is always better to choose kindness and empathy over insults. Let us strive to uplift and inspire others with our words, rather than tearing them down.

2 Line Insult Shayari In Hindi

मज़ाक उतना ही करो जितना कि बेज्जती ना हो ।
दुस्मनी झेल लेंगे साहब पर यह साली बेज्जती बरदाश नहीं होती ।

भोकना और चिल्लाना कुत्तों का काम है
हम तो बेज्जती भी इज्ज़त से करते है।

बार बार आंसू साफ कीजिए  बेज्जती करता रहूंगा
आप बस थोड़ा बात कीजिए

तेरे चहेरे से नज़र हटती नहीं  भैया आप सिंगल क्यों हो
कोई पटती ही नहीं है।

लड़कियाँ इतनी समझदार होती है की अगर, आप उन्हे समझदार भी कहोगे,

तो वो तुरंत समझ जाती है, की आप झूठ बोल रहे है !!

दिल की तमन्ना है कि मैं भी, अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको,
बस तू अपना वजन कम करले, तो पलकों पर बिठा लूँ तुझको।

शाम होते ही ये दिल उदास होता है, टूटे ख्वाबों के सिवा कुछ न पास होता है,
तेरी याद ऐसे वक़्त बहुत आती है, जब कोई बंदर आस पास होता है।

Attitude Insult Shayari

इस दिल को तो एक बार को,
बहला कर चुप करा लूँगा,
पर इस दिमाग का क्या करूँ,
जिसका तुमने दही कर दिया है।

ये दुनिया हश कर मज़ा लेती है
बेज्जती भी करती है है
और गले भी लगती है। “Insult Status”

बार बार आंसू साफ कीजिए
बेज्जती करता रहूंगा
आप बस थोड़ा बात कीजिए

लगातार एक से प्यार करना,
कोई बेज्जत नहीं होता
सच कहूं यारो
गरीब के प्यार की कोई इज्ज़त नहीं होती ।

तेरे लिए सब कुछ कर जाते है
और मेकअप कर लिया करो बचे डर जाते है

Girl Insult Shayari

सुन #पगली
अगर मुझे A_for_attitude दिखाएगी
तो सीधा B_for_Blocklist में जायेगी !!

संभल जा #पगली
वरना जिस दिन तेरे दिल से निकलेंगे
तेरी औकात से बाहर हो जाएंगे !!

इतना ‪#‎Attitude‬ मत दिखा ‪#‎Pagli‬..
वरना जैसे रोज ‪#‎Status‬ चेँज करता हुँ
वैसे ही तुझे भी ‪#‎Change‬ कर दुँगा..

तू कहे तो चाँद तारे तोड़ दूँ,
तू कहे तो ये दुनिया छोड़ दूँ,
तू एक बार हँस के देख मेरे दोस्त,
तेरे सारे गंदे दांत न तोड़ दूँ।

मेरी ‪आँखों‬ में ‪झाँक‬ के तो ‪देख‬ ‎पगली‬..
कैसे कैसे ‎प्लान‬ बना के ‪बैठा‬ हूँ तुझे ‎पाने‬ के लिए..

Insult Shayari

तमीज करना सीखो
किसी से ज्यादती मत करो..
अगर इज्जत ना कर
सको तो बेइज्जती मत करो..

हर दफा जज्बातों का
तूने अपमान किया है..

जिससे मुझे परहेज था
बिल्कुल वही किया है..

Dua Karte Hain Hum Khuda Se,
Ke Wo Aap Jaisa Dost Aur Na Banaye,
Ek Cartoon Jaisi Cheej Hai Humare Paas,
Kahin Wo Bhi Common Na Ho Jaye.
दुआ करते हैं हम खुदा से,
के वो आप जैसा दोस्त और न बनाये,
एक कार्टून जैसी चीज है हमारे पास,
कहीं वो भी कॉमन न हो जाये।

Aasmaan Jitna Neela Hai,
Surajmukhi Jitna Peela Hai,
Paani Jitna Geela Hai,
Aapka Skru Utna Hi Dheela Hai.
आसमान जितना नीला हैं,
सूरजमुखी जितना पीला हैं,
पानी जितना गीला हैं,
आपका स्क्रू उतना ही ढीला हैं।

कमी तो होनी ही है पानी की, शहर में,
न किसी की आँखों में बचा है और न ही किसी के जज़्बात में।

Insult Shayari In Hindi

मैं झुक गया तो वो सज़दा समझ बैठे,
मैं तो इन्सानियत निभा रहा था,
वो खुद को ख़ुदा समझ बैठे।।

तुम्हारी बादशाह बनने की ख्वाइश ऐसी अलबेली हे की,
जेसे राजा भोज बने गंगू तेली ।

बदलने वाले तो बदल ही जाते हैं
वक्त तो सिर्फ एक बहाना होता है

अब तक रोजाना मुर्गा खाने वाले लोग,
घर की छतों पर चिड़िया के लिए
पानी रखने की सलाह वाली पोस्ट पेलेंगे..

जब काम निकल जाये,,, 😢💔
तो मुझे #डिलिट कर देना…

Insult Shayari In Hindi For Boy

दिल की तमन्ना है कि मैं भी,
अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको,
बस तू अपना वजन कम करले,
तो पलकों पर बिठा लूँ तुझको…

चाँद से रौशनी ज्यादा,
और सितारों से कम निकले,
जब भी मैं तुझे देखूँ,
मेरा हँस-हँस के दम निकले…

हम हो गए तुम्हारे तुम्हें सोचने के बाद,
अब न देखेंगे किसी को तुम्हें देखने के बाद,
दुनिया छोड़ देंगे तुम्हें छोड़ने के बाद,
खुदा माफ़ करे इतने झूठ बोलने के बाद…

लड़को सो जाओ
जब वो तुम्हारे पोस्ट को भाव नहीं देती…
तो मैसेज़ क्या खाक करेगी

कमाल के तेर नखरें
कमाल का तेरा स्टाइल हैं,
बात करने की तमीज नही
और हाथ में मोबाइल हैं.

Insulting Shayari For Friends In Hindi

याद है हम पहले कहाँ मिले थे,
ट्रेन रुकी, खिड़की खुली,
नजरों से नजरे मिली और अपने कहा,
“अल्लाह के नाम पर कुछ देदे बाबा।”

चाँद से रौशनी ज्यादा
और सितारों से कम निकले,
जब भी मैं तुझे देखूं
मेरा हंस हंस के दम निकले।

चाँद से रौशनी ज्यादा
और सितारों से कम निकले,
जब भी मैं तुझे देखूँ
मेरा हँस-हँस के दम निकले.

शाम होते ही ये दिल उदास होता हैं,
टूटे ख्वाबों के सिवा कुछ न पास होता हैं,
तुम्हारी याद ऐसे वक्त बहुत आती हैं,
जब कोई बंदर आस-पास होती हैं.

तू कहे तो चाँद तारे तोड़ दूँ,
तू कहे तो ये दुनिया छोड़ दूँ,
तू एक बार हँस के देख मेरे दोस्त,
तेरे सारे गंदें दांत तोड़ दूं.

Ladki Insult Shayari

पथ्थर समझ के हमें मत ठुकराओ,
कल हम मंदिर में भी हो सकते हैं!

नसीब अच्छे ना हो तो खूबसूरती का कोई फायदा नही,
दीलो के शहेनशाह अकसर फकीर होते है!

गुज़र गया वो वक़्त जब तेरी हसरत थी मुझको,
अब तू खुदा भी बन जाए तो भी तेरा सजदा ना करूँ…

तू कहे तो चाँद तारे तोड़ दूँ,
तू कहे तो ये दुनिया छोड़ दूँ;
तू एक बार हँस के देख मेरे दोस्त,
तेरे सारे गंदें दांत तोड़ दूं!

दुआ करते हैं हम खुदा से,
के वो आप जैसा दोस्त और न बनाये,
एक कार्टून जैसी चीज है हमारे पास,
कहीं वो भी कॉमन न हो जाये…

Ladko Ki Insult Shayari

Tareef Ke Kabil Hum Kahan,
Charcha To Aapki Chalti Hai,
Sab Kuchh To Hai Aapke Paas,
Bas Seeng Aur Poonchh Ki Kami Khalti Hai.

तारीफ के काबिल हम कहाँ,
चर्चा तो आपकी चलती है,
सब कुछ तो है आपके पास,
बस सींग और पूछ की कमी खलती है।

Tareef Ke Kabil Hum Kahan,
Charcha To Aapki Chalti Hai,
Sab Kuchh To Hai Aapke Paas,
Bas Seeng Aur Poonchh Ki Kami Khalti Hai.

तारीफ के काबिल हम कहाँ,
चर्चा तो आपकी चलती है,
सब कुछ तो है आपके पास,
बस सींग और पूछ की कमी खलती है।

क्या मस्त मौसम आया है,
हर तरफ पानी ही पानी लाया है;
तुम घर से बाहर मत निकलना,
वर्ना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं;
और मेंढक निकल आया है!

इस दिल को तो एक बार को,
बहला कर चुप करा लूँगा;
पर इस दिमाग का क्या करूँ,
जिसका तुमने दही कर दिया है!

सोचता हूँ कंजूसों का एक डिपार्टमेंट बनाऊं,
चेयरमैन की कुर्सी पर आपको बिठाऊं;
दुनिया से आप को चंदा दिलवाऊं,
ताकि आप से कुछ एस.एम.एस. तो ले पाऊं!

Ladko Ki Insult Shayari

हम हो गए तुम्हारे तुम्हें सोचने के बाद,
अब न देखेंगे किसी को तुम्हें देखने के बाद,
दुनिया छोड़ देंगे तुम्हें छोड़ने के बाद,
खुदा माफ़ करे इतने झूठ बोलने के बाद…

चाँद से रोशनी ज्यादा
और सितारों से कम निकले,
जब भी मैं तुझे देखूं
मेरा हँस हँस के दम निकले।

दुआ करते हैं हम खुदा से,
कि वो आप जैसा दोस्त और न बनाये,
एक कार्टून जैसी चीज है हमारे पास,
कहीं वो कॉमन न हो जाये।

तारीफ के काबिल हम कहाँ,
चर्चा तो आपकी चलती है,
सब कुछ तो है आपके पास,
बस सींग और पूंछ की कमी खलती है।

हम उस ऊंचाई पर हे
जहा तुम्हारे सर से ज्यादा उंचाई पर
हमारे पांव रहते हे ।

(Visited 506 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *