Intezaar Shayari
Hindi Shayari Shayari

Intezaar Shayari

Sep 11, 2023

2 Line Intezaar Shayari

दो गज़ जमीन मिल जाए तो सुकुन से लेटना है अब,
बहोत कर लिया इंतजार उनका…

Intezaar Shayari

उम्रे-दराज़ मांग कर लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार में।

किश्तों में खुदकुशी कर रही है ये जिन्दगी…
इंतज़ार तेरा…मुझे पूरा मरने भी नहीं देता

मौत पर भी है यकीन, उन पर भी ऐतबार है
देखते है पहले कौन आता है, दोनों का इन्तज़ार है

आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी और
दिल में बसा है तेरा प्यार

एक मुलाक़ात की आस में मैं ज़िंदगी गुज़ार लूंगा,
तुम हां तो कहो तुम्हारे लिए उम्र भर इंतज़ार करूंगा।

Intezaar Love Shayari

आंखों का इंतज़ार तुम पर आकर ही तो खत्म होता है,
फिर चाहे वो हकीकत या फिर ख्वाब।

Nigahe Fer Ke Jo Door Baithe Hai
Jara Idhar Bhi Dekhiye Janab
Hum Bekasoor Baithe Hai
निगाहें फेर के जो दूर बैठे है
जरा इधर भी देखिये जनाब
हम बेक़सूर बैठे है

Kesi Hai Ye Mohabbat
Kaisa Ye Pyaar Hai
Ek Taraf Hai Khamoshi
Ek Taraf Intzar Hai
कैसी है ये मोहब्बत
कैसा ये प्यार है
एक तरफ है ख़ामोशी
एक तरफ इंतज़ार है

Teri Ummid Tera Intzar Karte Hai
Ae Sanam Hum To Sirf Tumse Pyaar Karte Hai
तेरी उम्मीद तेरा इंतज़ार करते है
ऐ सनम हम तो सिर्फ तुमसे प्यार करते है

Intezaar Shayari

Tumne Kaha Tha
Har Sham Tumhara Haal Pucha Krege
Tum Badal Gaye Ho Ya Tumhare Shahar Me
Sham Nahi Hoti
तुमने कहा था
हर शाम तुम्हारा हाल पूछा करेगे
तुम बदल गए हो या तुम्हारे शहर में
शाम नहीं होती

चाहे तू कबूल करे या ना करे;
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार!

Intezaar Shayari

ये कह कह के हम दिल को समझा रहे है
कि वो अब चल चुके,वो अब आ रहे है।

मिलने का मज़ा अक्सर इंतज़ार के बाद ही आता है।

आहिस्ता आहिस्ता धड़कन बढ़ने लगती है,
जब इंतज़ार की घड़ी कम होने लगती है।

हर इंतज़ार का अहसास बहुत ही खूबसूरत होता है !!

क्या खूब ये सुरूर तेरा है मुझ पर,
तुमसे मिल कर फिर तुमसे मिलने का इंतज़ार रहना है।

कुछ इस कदर खूबसूरत रिश्ते टूट जाया करते है,
दिल भर जाता है तो लोग रूठ जाया करते है।
थोड़ी सी ही सही मगर बात कर लिया करो,
चुप रहते हो तो भूल जाने का एहसास होता है।

Intezaar Shayari Hindi

मुझे उस करिश्मे का इंतज़ार है, जब हम एक होंगे,
कब वो दिन आएंगे हमारे आंगन में खुशियों के ढेर होंगे।

साहिल पे खड़े होकर तेरा दीदार करते है,
तू मिलेगा जिस पल उस पल का बेसब्री से इंतज़ार करते है।

saahil pe khade hokar tera deedaar karate hai,
too milega jis pal us pal ka besabree se intazaar karate hai.

तू याद करे न करे हम तो तुझे याद करते रहेंगे,
तुझे देखने को तरसते है हम तो इंतज़ार करते रहेंगे।

आँखों में नींद न दिल में क़रार
ए दूर रहनेवाले हर वक़्त तेरा ही इंतज़ार

आँखों को इंतज़ार का हुनर दे कर चला गया
चाहा था एक शख्स को जाने किधर चला गया

तुम आओ कभी दस्तक तो दो दर-ए-दिल पर,
प्यार पहले से कम हो तो सज़ा-ए-मौत दे देना।

Intezaar Shayari In Hindi

ये जो पलकों पे है खुमार आप का,
हाँ इसी को कहते हैं इंतज़ार यार का।

कभी किसी का जो होता था इंतज़ार
हमे बड़ा ही शाम-ओ-सहर का हिसाब रखते थे.

वो न आएगा हमें मालूम था इस शाम भी,
इंतज़ार उस का मगर कुछ सोच कर करते रहे.

पलको से ये आंखे सवाल करती हैं,
वक़्त बे वक़्त तुम्हे याद करती हैं
देख न ले ये आंखे तुम्हे तबतक,
ये हर घडी तुम्हारा इंतज़ार करती हैं.

कभी किसी का जो होता था इंतजार
हमें बड़ा ही शाम -ओ -शहर का हिसाब रखते थे.

उसकी मोहब्बत पे मेरा हक़ तो नहीं लेकिन,
दिल करता है के उम्र भर उसकी इंतज़ार करूँ.

Intezaar Shayari In Hindi For Girlfriend

हर घड़ी अब उनकी आवाज़ सुनने को बेकरार रहते हैं,
शायद इसी को दुनिया में प्यार कहते हैं,
काटने से भी जो ना कटे वक्त,
उसी को मोहब्बत में इंतज़ार कहते हैं.

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त आपको ही याद करती हैं,
जब तक ना देख ले मेसेज आपका,
तब तक वो आपके मेसेज का इंतज़ार करती हैं.

खुद हैरान हूँ मैं अपने सब्र का पैमाना देख कर,
तूने याद भी ना किया,
और मैंने इंतज़ार नहीं छोड़ा।

कल भी तुम्हारा इंतज़ार था,
आज भी तुम्हारा इंतज़ार है,
और हमेशा तुम्हारा ही इंतज़ार रहेगा।

तुम्हारी यादों पर इख़्तियार हो नही सकता,
लौट आओ के अब इंतज़ार हो नही सकता।

इंतज़ार के इन लम्हों में,
ज़माना ना जीत जाए,
इंतज़ार करते-करते कहीं,
ज़िन्दगी ना बीत जाए।

Intezaar Shayari Urdu

Ai Maut Unhein Bhulaye Huye Zamane Gujar Gaye,
Aa Ja Ke Zeher Khaye Huye Zamane Gujar Gaye,
O Jaane Wale Aa Ke Tere Intezaar Mein,
Raste Ko Ghar Banaye Zamane Gujar Gaye.
ऐ मौत उन्हें भुलाए ज़माने गुजर गए,
आ जा कि ज़हर खाए ज़माने गुजर गए,
ओ जाने वाले आ कि तेरे इंतजार में,
रास्ते को घर बनाए ज़माने गुजर गए।

Din Bhar Bhatakte Rahte Hain Armaan Tujhse Milne Ke,
Na Yeh Dil Thehrta Hai Na Tera Intezaar Rukta Hai.
दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के,
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

Kin Lafzo Mein Likhu Main Apne Intezaar Ko Tumhein,
Bejubaan Hai Ishq Mera Dhhoondta Hai Khamoshi Se Tujhe.
किन लफ्जों में लिखूँ मैं अपने इंतज़ार को तुम्हें,
बेजुबां है इश्क़ मेरा ढूंढ़ता है खामोशी से तुझे।

Woh Na Aayega Humein Malum Tha Iss Shaam Bhi,
Intzaar Uska Magar Kuchh Soch Kar Karte Rahe.
वो न आएगा हमें मालूम था इस शाम भी,
इंतज़ार उस का मगर कुछ सोच कर करते रहे।

Aankhein Rahengi Shaam-o-Sehar Muntazir Teri,
Aankhon Ko Saunp Denge Tera Intezaar Hum.
आँखें रहेंगीं शाम-ओ-शहर मुन्तज़िर तेरी,
आँखों को सौंप देंगे तेरा इंतज़ार हम।

Kabhi Toh Chaunk Ke Dekhe Koi Humari Taraf,
Kisi Ki Aankh Mein Humko Bhi Intezar Dikhe.
कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हमको भी इंतज़ार दिखे।

Palkon Par Ruka Hai Samandar Khumaar Ka,
Kitna Ajab Nasha Hai Tere Intezaar Ka.
पलकों पर रूका है समन्दर खुमार का,
कितना अजब नशा है तेरे इंतजार का।

Shayari Intezaar

Ek Ajnabi Se Mujhe Itna Pyaar Kyu Hai,
Inkar Karne Par Chahat Ka Ikraar Kyu Hai,
Use Paana Nahi Meri Taqdeer Mein Shayad,
Phir Har Mod Par Uska Intezar Kyon Hai.
एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यूँ है,
इन्कार करने पर चाहत का इकरार क्यूँ है,
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद,
फिर भी हर मोड़ पर उसका इंतजार क्यूँ है।

Meri Ik Umr Kat Gayi Tere Intezaar Mein,
Aise Bhi Hain Ki Kat Na Saki Jinse Ek Raat.
मेरी इक उमर कट गई है तेरे इंतज़ार में,
ऐसे भी हैं कि कट न सकी जिनसे एक रात।

मरने के बाद भी मेरी आँखें खुली रहे
आदत जो पढ़ गयी थी तेरे इंतजार की

मैं इतंजार का क़ायल ना था मगर
तुमने लगा दिया मुझे दीवार से घड़ी की तरह

Hum aaj bhi us mod me unka intezar karte hai…
Jaha aakhiri dafa unse mulakat hui thi..

Shayari On Intezaar

Jo maja unke intezar me tha..
Wo izhaar me khaa??

Mere ishq ka hausla to dekho ,
Aaj bhi uska intezaar rehta hai jisko iska ehsas tak ni…

इंतज़ारमें रहे तेरे
ज़िन्दगी तन्हा काट दी,
खुशियाँ सारी ज़िन्दगी मैंने
तेरे सदके में बाँट दी..।

इंतजार में उनके आंखें खुली रही
मौत सुलाने आई थी थक के वापस चली गई.

इस कदर थामी कराई उसकी
उसके शौहर ने
कि मेरी दी हुई कंगन
कहीं गुम से गई।

मिल जाए मुझको तू
यही ख्वाहिश लिए बैठा हूं
निकाह को आई तस्वीरों को
बिन देखे ही मना करता हूं।

Tera Intezaar Shayari

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त आपको ही तो याद करती हैं,
जब तक देख न लें चेहरा आपका,
हर घडी आपका ही इंतज़ार करती हैं।

Aankhen Bhee Meree Palakon Se Savaal Karatee Hain,
Har Vaqt Aapako Hee To Yaad Karatee Hain,
Jab Tak Dekh Na Len Chehara Aapaka,
Har Ghadee Aapaka Hee Intazaar Karatee Hain.

तेरे लौट आने का इंतजार
आज भी इन आंखों में रहता है
तेरी जुदाई और गमों का
बुखार मेरे दिल पर छाया रहता है !
Tere Laut aane ka Intezar
Aaj Bhi ine Aankhon Mein
rahata Hai Teri Judai Aur
Gham ka Bukhar Mere Dil
per Chhaya rahata hai

तेरे प्यार ने मुझे उम्र भर के दर्द दिए हैं
तेरी बेवफाई ने इस दिल को टूटे ख्वाब दिए हैं !
Tere Pyar Ne Mujhe Umra Bhar Ke Dard Diye Hain
Teri Bewafai Ne Is Dil Ko Tute Khwab Diye Hain

मुद्दत से ख्वाब में भी नहीं नींद का ख्याल
हैरत में हूँ ये किस का मुझे इंतज़ार है।
Muddat Se Khvaab Mein Bhee Nahin Neend Ka Khyaal
Hairat Mein Hoon Ye Kis Ka Mujhe Intazaar Hai.

(Visited 185 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *