1000+ Tareef Shayari

August 24, 2022
Tareef Shayari
249
Views

Tareef Shayari : This is the best Tareef Shayari and we have the best collection so search and Like, share on social media and your friends and family like WhatsApp and Facebook Etc

Main Tumhari Saadgi Ki Kya Misaal Dun,
Iss Saare Jahaan Mein Be-Misaal Ho Tum.

Tareef Shayari
मैं तुम्हारी सादगी की क्या मिसाल दूँ
इस सारे जहां में बे-मिसाल हो तुम।


Hain Honthh Uske Kitaabon Mein Likhi Tehreeron Jaise
Ungali Rakho Toh Aage Parhne Ko Jee Chahta Hai.

Tareef Shayari
हैं होंठ उसके किताबों में लिखी तहरीरों जैसे,
ऊँगली रखो तो आगे पढ़ने को जी करता है।


Ye Aayine Kya De Sakenge Tumhein
Tumhari Shakhsiyat Ki Khabar,
Kabhi Humari Aankhon Se Aakar Puchho
Kitne LaJawab Ho Tum.

Tareef Shayari
ये आईने क्या दे सकेंगे तुम्हें
तुम्हारी शख्सियत की खबर,
कभी हमारी आँखो से आकर पूछो
कितने लाजवाब हो तुम।


तू अपनी निगाहों से न देख खुद को,
चमकता हीरा भी तुझे पत्थर लगेगा,
सब कहते होंगे चाँद का टुकड़ा है तू,
मेरी नजर से चाँद तेरा टुकड़ा लगेगा।

Tareef Shayari


मत मुस्कुराओ इतना,
कि फूलों को खबर लग जाए,
कि करे वो तुम्हारी तारीफ
और तुम्हें नजर लग जाएँ।

Tareef Shayari


अभी इस तरफ़ न निगाह कर,
मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ,
मेरा लफ़्ज़-लफ़्ज़ हो आईना,
तुझे आईने में उतार लूँ।

Tareef Shayari


फूलों से खूबसूरत कोई नहीं,
सागर से गहरा कोई नहीं,
अब आपकी क्या तारीफ करू
खूबसूरती में आप जैसा जैसा कोई नहीं।

Tareef Shayari


जरा संभल कर रहना यारों,
तारीफों के पुल के नीचे,
मतलब का दरिया बहता है,
जरूरत पड़ने पर खुदा भी सलाम कहता है।

Tareef Shayari


अब क्या लिखूं तेरी तारीफ में मेरे हमदम,
अलफ़ाज़ कम पड़ जाते है तेरी मासूमियत देखकर।

ab kya likhoon teree taareeph mein mere hamadam,
alafaaz kam pad jaate hai teree maasoomiyat dekhakar.


तुम्हारे गालों पर एक तिल का पहरा भी जरूरी है,
डर है की इस चहरे को किसी की नज़र न लग जाए।

tumhaare gaalon par ek til ka pahara bhee jarooree hai,
dar hai kee is chahare ko kisee kee nazar na lag jaye.


हाय ये नज़ाकत ये शोखियाँ ये तकल्लुफ़, ये हुस्न,
कहीं तू मेरी शायरी का कोई हसीन लफ्ज़ तो नहीं।

Tareef Shayari

haay ye nazaakat ye shokhiyaan ye takalluf, ye husn,
kaheen too meree shaayaree ka koee haseen laphz to nahin.


वो मुझसे रोज़ कहती थी मुझे तुम चाँद ला कर दो,
आज उन्हें एक आईना देकर अकेला छोड़ आया हूँ।

Tareef Shayari

vo mujhase roz kahatee thee mujhe tum chaand la kar do,
aaj unhen ek aaeena dekar akela chhod aaya hoon.


हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है; जिस तरफ़ भी चल पड़ेगे, रास्ता हो जाएगा


Mahi Sharma: खुश होना है तो तारीफ सुनिए और बेहतर होना है तो निंदा


वो तारीफे करते रहते है
हम शायरी करते रहते है
वो कुछ कहते नही ओर
हम इंतज़ार करते रहते है !

Vah Tarife Karte Rahte Hain
Ham shayari Karte rahte hain
vah Kuchh Kahate Nahin aur
ham Intezaar Karte rahte hain


आसमा मे खलबली है सब यही पूछ रहे हैं
कौन फिरता है ज़मी पे चाँद सा चेहरा लिए !

Tareef Shayari


अपना इक-इक वादा इस तरह निभाना है
तुम को मेरे आँगन मे चाँद बन के आना है !


तेरे हुस्न पर तारीफ भरी किताब लिख देता
काश के तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती !

Tareef Shayari

Article Categories:
Hindi Shayari · Shayari

Comments are closed.