Dard E Dil Shayari
Hindi Shayari

Dard E Dil Shayari

Aug 3, 2023

कहाँ-कहाँ से निकालूँ
तुम्हारी यादों को, बता दो न
रूह में समाई हुई है,
मेरी परछाई की तरह
Kahaan-kahaan se nikaaloon
Tumhaaree yaadon ko, bata do na
Rooh mein samaee huee hai,
Meree parachhaee kee tarah

मैं तुमसे नफरत नहीं कर सकता
टूट कर चाहा था कभी तुम्हें
तुम बावफ़ा न सही
मगर प्यार तो आज भी हो मेरा
Main tumase napharat nahin kar sakata
Toot kar chaaha tha kabhee tumhen
Tum baavafa na sahee
Magar pyaar to aaj bhee ho mera

ना तस्वीर हैं उसकी जो दीदार किया जाए।
ना तुम हो मेरे पास जो प्यार किया जाए।
ये कौन सा दर्द दिया है उस बेदर्द ने,
ना कुछ कहाँ जाए ना तुम बिन रहा जाए।
Na Taswir Bai Uaski Jo Didar Kiya Jaye,
Na Tum Ho Mere Pas Jo Payar Kiya Jaye,
Ye Kuain Sa Dard Diya Hai Uas Bedard Ne,
Na Kuchh Kaha Jaye Na Tum Bin Rha Jaye,

yun to pyar me thokare hajar milti hai
par mohobbat ke sath nai milti hai..
hame bhi ek ajib diwana mila hai
jisse mohobbat me tanhai milti hai..

कुछ दर्द जिंदगी में ऎसा मिला
जिन्होंने जान भी ले ली
और जिन्दा भी छोड़ दिया
Kuch Dard Jindagi Mein Aisa Mila
Jinhonne Jaan Bhi Le Li
Aur Jinda Bhi Chod Diya

भूलने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता
मेने नहीं मेरे दिल ने चुना है तुम्हे
Bholane Ka To Sawal Hi Paida Nahi Hota
Mene Nahi Mere Dil Ne Chuna Hai Tumhe

मेरी जिंदगी तेरा साथ शुरू तो नहीं हुई
मगर खुवाहिश है की ख़तम तेरे साथ ही हो
Meru Jindagu Tera Saath
Shuroo To Nahi Hui
Magar Khuwahish Hai Ki Khatam
Tere Sath Hi Ho

<

(Visited 82 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *